जिम्स अस्पताल में एक लाख से अधिक कोविड का हुआ टेस्ट, जिलाधिकारी ने कोविड योद्धाओं को किया सम्मानित

जिम्स अस्पताल में एक लाख से अधिक कोविड का हुआ टेस्ट, जिलाधिकारी ने कोविड योद्धाओं को किया सम्मानित

ग्रेटर नोएडा,3 सितम्बर। राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान, 15 मार्च को पहला कोविड मरीज पाये जाने के समय से ही कोविड-19 मरीजों की देखभाल एवं उपचार कर रहा है। अभी तक संस्थान में 1300 से अधिक कोविड मरीजों को भर्ती किया जा चुका है जिसमें से 1100 से अधिक मरीजों को सफलता पूर्वक उचपार के उपरान्त घर भेजा जा चुका है। कोविड महामारी की शुरूआत में संस्थान में केवल सैम्पल कलैक्ट कर अन्य जिलों में जांच हेतु भेजे जाते थे, जिसमें मरीज की रिपोर्ट आने में काफी वक्त लगता था। संस्थान ने मरीजों को हो रही परेशानी को देखते हुए अपने यहां कोविड-19 की जांच के लिए प्रयोगशाला बनाने का निर्णय लिया। सुरु में 50 टेस्ट की क्षमता थी, उसके बाद 3000 टेस्ट प्रतिदिन किया गया।
संस्थान में 1 लाख से अधिक कोविड-19 टेस्ट एवं 100 प्लाज्माफेरेसिस प्रोसीजर्स किये जाने पर के उपलक्ष्य में कोविड-19 लैब व ब्लड बैंक में कार्यरत डाक्टर्स एवं अन्य स्टॉफ को सम्मानित किये जाने हेतु संस्थान में एक समारोह आयोजित किया गया, जिसमें जिलाधिकारी सुहास एल.वाई. एवं मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह ने हिस्सा। समारोह में जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी तथा निदेशक डा. (ब्रिगे.) राकेश गुप्ता ने कोविड लैब में कार्यरत डॉ. वरून गोयल, डॉ. ममता पाढी, डॉ. निधी पाल, डॉ. कृष्णलता, डॉ. अजय, डॉ. रवि, डॉ. अश्मिता, डॉ. आकाश राजा व डॉ. श्याम सुन्दर व डॉ. साइदेश्वर राव व लैब टेक्निशियन अब्दुल, अमित कुमार व निशा देवी तथा ब्लड बैंक में कार्यरत डॉ. कंचन कामनी व डॉ. मानसी तथा ब्लड बैंक टेक्नीशियन धीरज को प्रमाणपत्र देकर सम्मानित किया गया। साथ ही समारोह में संस्थान में ड्राइवर के पद पर कार्यरत प्रवीन कुमार को 42 कि.मी. मैराथन के ट्रायल में प्रथम स्थान प्राप्त करने पर प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर जिलाधिकारी सुहास एल.वाई. ने संस्थान के निदेशक एवं समस्त टीम को बधाई देते हुए कहा कि संस्थान ने बहुत ही कम समय में कोविड-19 के उपचार हेतु देश के अन्य उत्कृष्ट संस्थानों सरीखी व्यवस्था संस्थान में उपलब्ध करायी है और आशा है कि संस्थान इसी तरह सफलता की सीढियां चढ़ते जायेगा। मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह ने संस्थान निदेशक, डाक्टर्स एवं कर्मचारियों के कोविड-19 महामारी में अपना अमूल्य योगदान देने के लिए सराहना की। निदेशक डॉ. (ब्रिगे.) राकेश गुप्ता ने अवगत कराया कि माह अप्रैल में संस्थान कोविड जांच में प्रदेश में 25वें पायदान पर था लेकिन अब 10वें पायदान पर है। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सौरभ श्रीवास्तव ने सभी अतिथियों एवं डाक्टर्स व स्टॉफ का आभार जताया।

Spread the love
Latest News