कोल्डड्रिंक पी रहे हैं तो हो जाइये सावधान….

कोल्डड्रिंक पी रहे हैं तो हो जाइये सावधान....

नई दिल्ली(एजेन्सी)। बढ़ती गर्मी के साथ लोग शरीर को राहत देने के लिए पानी या कोल्डड्रिंक का सहारा लेते हैं लेकिन उन्हें इस बात की इल्म नहीं होती की कोल्ड ड्रिंक उनके शरीर के लिए कितना खतरनाक है। गर्मी बढ़ते ही घर में और बाहर कोल्ड ड्रिंक और मिनरल वॉटर की खपत भी बढ़ जाती है, कोल्ड ड्रिंक पीने के अपने प्रभाव है,लेकिन उससे भी ज्यादा आपके लिए ये जानना जरुरी है कि कोल्ड ड्रिंक पीने के बाद उसी बोतल का इस्तेमाल आपने फ्रीज में पानी ठंडा करने के लिए किया तो क्या क्या खामियाजा आपको और आपके परिवार को भुगतना पड़ सकता है। गर्मी बढ़ते ही ज्यादा से ज्यादा पानी फ्रीज में ठंडा हो सके, इसके लिए कोल्ड ड्रिंक की बोतल में लोग पानी भर कर फ्रीज में रख लेते हैं, बस यहीं जुगाड़तंत्र सेहत के तंत्र को बिगाड़ सकता है।जिसके बारे में ज्यादातर लोगों को कुछ नहीं पता होता, सालों से लोग इस गलती को दोहरा रहे हैं।
मिनरल वॉटर या कोल्ड ड्रिंक की बोतल आपने खरीदी और पानी या कोल्ड ड्रिंक पीने के बाद खाली बोतल को अपने पास ही रख लिया, घर में या कार में और इसी के सहारे पानी पीने का जुगाड़ तलाश लिया तो आप बहुत भारी गलती कर रहे हैं। ऐसी बोतलें सिर्फ वन टाइम यूज करने के लिए होती है। एक बार इस्तेमाल करने के बाद इसे क्रश करके फेंक देना चाहिए। चिकित्सकों व शोध में पाया गया है कि प्लास्टिक बोतल का लंबे समय तक इस्तेमाल करना आपने लिए काफी नुकसानदायक हो सकता है। आप भी जान लिजिए इससे होने वाले नुकसान के बारे में और साथ ही आसपास के लोगों से भी ये जानकारी साझा करें। प्लास्टिक की बोतल में पानी भर कर पीने वालों की तादात बहुत ज्यादा है।
प्लास्टिक की बोतल में पानी रखने से इसमें फ्लोराइड और आर्सेनिक जैसे कई तत्व पैदा हो जाते हैं। ये तत्व धीरे धीरे अपना असर दिखाते हैं और शरीर को मुकसाने पहुंचाते हैं। कोल्ड ड्रिंक पीने से न तो प्यास बुझती है और न ही ताजगी आती है. इसमें सीसा (लेड), कैडियम, क्रोमियम, कार्बन-डायऑक्साइड और शुगर जैसे तत्व होते हैं, जो हमारी हेल्थ को नुकसान पहुंचा सकते हैं. गर्मियों में उनका प्रभाव दोगुना हो जाता है। जो लोग प्लास्टिक की बोतल में पानी भर कर कार में रख लेते हैं उनके लिए ये आदत बेहद घातक है। इसे समझने के लिए प्लास्टिक की बोतल में गर्म पानी डाल कर चेक कर सकते हैं। प्लास्टिक की बोतल में गर्म पानी डालने पर प्लास्टिक पिघलने लगता है, ठीक वैसे ही कार में रखी बोतल सूरज की रोशनी से गर्म हो जाती है जिससे डायॉक्सिन पैदा होते हैं। इससे ब्रेस्ट कैंसर की भी खतरा होता है।

Spread the love
Latest News