भयंकर आग से दर्जन भर किसानों की फसल व भूसा स्वाहा, लाखों का नुकसान

भयंकर आग से दर्जन भर किसानों की फसल व भूसा स्वाहा, लाखों का नुकसान

दमकल विभाग पर ग्रामीणों ने लगाया लापरवाही का आरोप, सूचना के दो घंटे बाद मौके पर पहुंची फायर बिग्रेड़
-नुकसान से नर्वस किसान भविष्य में आर्थिक तंगी एवं पशुओं के चारा संकट को लेकर हुए चिंतित
रबूपुरा। शनिवार को खेतों में अचानक आग की लपटें व धुंआ उठता देख सैकड़ों ग्रामीण मौके पर पहुंचे और आग बुझाने का प्रयास करते हुए पुलिस व दमकल विभाग को घटना की सूचना दी। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया तथा तेज धूप व हवा के कारण आग लपटों के सामने ग्रामीण बेवस होकर रह गये। टैªक्टरों से आस-पास जुताई कर करीब दो घंटे में आग पर काबू पाया गया लेकिन तब तक लगभग 90 बीघा फसल व भूसा जलकर खाक हो गया। आरोप है कि सूचना के बाद भी फायर बिग्रेड़ घंटों बाद तक मौके पर नहीं पहंुची। लाखों के नुकसान से नर्वस पीड़ित किसानों ने मुआवजा की मांग की है। जानकारी अनुसार गांव उटरावली के जंगल में शनिवार दोपहर अचानक एक खेत में आग लग गई। जिसे देख खेतों में काम कर रहे लोग मौके पर पहंुचे और शोर मचाते हुए आग बुझाने का प्रयास किया। कुछ ही समय में सैकड़ों ग्रामीण इकठ्ठा हो गये लेकिन तब तक आग विकराल रूप धारण कर अन्य खेतों में फैलना शुरू हो गई। ग्रामीणों के अथक प्रयास के बावजूद भी आग थमने का नाम नहीं ले रही और देखते ही देखते बामुश्किल आग पर काबू पाने तक गांव उटरावली व मेंहमदपुर निवासी किसान अमरसिंह, जयप्रकाश, रामभूल, गनेशी, रोदास, बसंत, लायकराम, ऋषिपाल, संजू, विनय ओघड़ सिंह, बबलू, बीरू, ओमप्रकाश आदि की लगभग 90 बीघा फसल, भूसा व पराली जलकर राख हो चुकी थी तथा आग बुझाने के प्रयास दो युवक देवेन्द्र व एक अन्य मामूली रूप से झुलस गये। घटना में हुए नुकसान का आंकलन करीब 4 लाख रूपये का किया जा रहा है तथा पीड़ितों किसान आगामी समय में होने वाली आर्थिक तंगी व पशुओं के चारा संकट को लेकर बेहद चिंतित हैं।
दो घंटे बाद पहंुची फायर बिगे्रड़ः- यूं तो शासन प्रशासन द्वारा किसान के हालात बेहतर बनाने एवं सुविधाएं मुहैया कराने के बडे-बडे दावे किये जाते हैं लेकिन अक्सर आग लगने जैसी घटनाओं में दमकल विभाग की अक्सर बड़ी लापरवाही सामने आती है। इस बार भी ऐसा ही मामला सामने आया, ग्रामीणों का आरोप है कि दोपहर लगभग दो बजे जैसे ही आग लगी तभी तत्काल इसकी सूचना पुलिस व दमकल विभाग को दी गई लेकिन तब भी फायर बिग्रेड़ करीब दो घंटे बाद मौके पर पहुंची तब तक ग्रामीण आग पर काबू पा चुके थे। आरोप है कि हर बार फसल के समय में प्रशासन से रबूपुरा क्षेत्र में दमकल की दो गाड़िया तैनात करने की मांग की जाती है लेकिन विभागीय उदासीनता हमेशा आमजन पर भारी पड़ती है। वहीं दूसरी तरफ गांव म्याना में आग लगने से कृष्ण शर्मा, जयदेव, दुर्गा, महेश आदि के बौंगे, बिटौडे जल गये तथा कई पशु भी आग की चपेट में आने से झुलस गये।

Spread the love
Latest News