आईईईई ने यूपी पूर्व व यूपी एनसीआर अनुभाग का किया गठन

ग्रेटर नोएडा। आईईईई यूपी अनुभाग ने डॉ. सतीश कुमार सिंह की अध्यक्षता में शनिवार को आईआईटीबीएचयू में 2021 की पहली कार्यकारी समिति की बैठक आयोजित की। कार्यकारी कमेटी की इस बैठक में सदस्य ऑनलाइन मोड में भी मौजूद थे। GCET, ग्रेटर नोएडा के प्रोफेसर डॉ. विनीत कुमार ने संवाददाता को बताया की इस बैठक में यूपी अनुभाग के दो नए उप अनुभाग (यूपी एनसीआर और यूपी पूर्व) बनाने का फैसला किया है। इस वजह से तकनीकी विशेषज्ञ, प्रोफेसर, तकनीकी छात्र और पीएचडी छात्र स्थानीय लेबल पर अच्छा समन्वय कर पाएंगे। इस बैठक ने नवाचारों, कौशल और सामाजिक भलाई को बढ़ावा देने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं। इस बैठक में तकनीकी छात्रों और पीएचडी छात्रों के लिए कई वित्तीय और तकनीकी योजनाओं को मंजूरी दीगयी है। अब और अधिक छात्र सदस्य आईईईई यूपी अनुभाग द्वारा प्रायोजित सम्मेलनों में भाग लेने के लिए यात्रा के लिए वित्तीय सहायता ले सकते हैं। आईईईईयूपी अनुभाग द्वारा प्रायोजित प्रत्येक सम्मेलन के लिए, पात्र छात्र सदस्यों के लिए शुल्क की छूट का प्रावधान होगा। बैठक में उद्योग और अकादमिक संपर्क पर विस्तार से चर्चा हुई है ताकि बेहतर रोजगार एवं उद्यमिता के लिए छात्र सदस्य अधिक कुशल हो सकें। और नवाचारों, कौशल और सामाजिक उत्थान में महिलाओं की अधिक भागीदारी पर भी चर्चा हुई। डॉ. निवास सिंह, प्रोफेसर IIT कानपुर ने तकनीकी गतिविधियों, सदस्यता, और गुणवत्ता के मामले में अनुभाग को जीवंत बनाने के लिए ऊर्जा भरने की कोशिश की तथा आईईईई यूपी अनुभाग की विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से अब तक किए गए घटनाक्रमों के बारे में सदस्यों को सूचित किया। डॉ. सतीश कुमार सिंह ने समाज की बेहतरी के लिए पूरे उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से शिक्षा, उद्योग और अनुसंधान संगठनों को एक मंच पर लाने की आवश्यकता पर जोर दिया। डॉ. सतीश कुमार सिंह के अनुसार, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में तकनीकी और बौद्धिक क्षमताएं बहुत अधिक हैं, और बस जरूरत है तो उन्हें केवल ठीक से उपयोग करने की, और केवल तब ही उत्तर प्रदेश तकनीकी, बौद्धिक, सामाजिक रूप से नेतृत्व कर सकता है। आईईईई दुनिया का सबसे बड़ा पेशेवर संघ है जो मानवता के लाभ के लिए तकनीकी नवाचार और उत्कृष्टता को आगे बढ़ाने के लिए समर्पित है। आईईईई के सदस्य अत्यधिक उद्धृत प्रकाशनों, सम्मेलनों, प्रौद्योगिकी मानकों और व्यावसायिक और शैक्षिक गतिविधियों के माध्यम से वैश्विक समुदाय को प्रेरित करते हैं। यह पेशेवर संगठन विभिन्न वैज्ञानिक परिधि व नियमों को बनाता है और इनका अनुसरण दुनिया भर के सभी उद्योग, अनुसंधान और विकास संगठनों द्वारा किया जाता है। आइईई उत्तर प्रदेश में सभी आइआइटी, ट्रिपलआइटी, एनआइटी, केंद्रीय विश्वविद्यालय, राज्य विश्वविद्यालय, उत्तर प्रदेश के अन्य सभी तकनीकी संस्थान और विश्वविद्यालय से सदस्य हैं।

Spread the love
Latest News