आईटीएस डेन्टल कॉलेज में एमडीएस व बीडीएस के छात्रों को मिली डिग्री

आईटीएस डेन्टल कॉलेज में एमडीएस व बीडीएस के छात्रों को मिली डिग्री


-दीक्षांत समारोह में एमडीएस के 30 और बीडीएस के 100 छात्रों ने हासिल की डिग्री

ग्रेटर नोएडा। आईटीएस डेंटल कॉलेज में शुक्रवार को एमडीएस के छठें बैच-2017 एवं बीडीएस के दसवें बैच-2015 के छात्रों की शिक्षा पूर्ण होने के अवसर पर एक भव्य दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया। दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि डॉ. रितू दुग्गल, चीफ सीडीइआर, एम्स, दिल्ली, एवं विशिष्ठ अतिथि, डॉ. विवेक नांगिया, डायरेक्टर व हैड, इंस्टीट्यूट ऑफ रिसपीरेटरी और क्रिटिकल केयर, मैक्स अस्पताल, साकेत, दिल्ली और आईटीएस- द एजूकेशन ग्रुप के अध्यक्ष डॉ. आर.पी. चड्ढा, उपाध्यक्ष सोहिल चड्ढा, सचिव बी.के. अरोडा, निदेशक पब्लिक रिलेशन सुरेन्द्र सूद एवं संस्थान के प्राधानाचार्य डॉ. सचित आनन्द अरोड़ा, सभी विभागों के विभागाध्यक्ष, शिक्षकगण एवं समारोह में शामिल विद्यार्थियों के माता-पिता की उपस्थिति में एमडीएस एवं बीडीएस के उत्तीर्ण छात्रों को डिग्री प्रदान की। इस अवसर पर डॉ. रितू दुग्गल ने उपाधि प्राप्त करने वाले छात्रों एवं उनके माता-पिता को बधाई देते हुए कहा कि दन्त चिकित्सा में स्नातक एवं परस्नातक की उपाधि हासिल करने से आप सभी की राष्ट्र और समाज के प्रति जिम्मेदारी और अधिक बढ़ गयी है। डॉ. रितू दुग्गल ने उपाधि धारक छात्रों को समाज के प्रति उनकी जिम्मेदारी का अहसास दिलाते हुऐ कहा कि कठिन परिश्रम और मेहनत से मिले ज्ञान का उपयोग मानवीय मूल्यों की रक्षा और समाज के लिए होना चाहिए। उन्होने कहा कि यह उनके जीवन की एक नई शुरूआत है तथा आने वाले समय में उन्हे अब तक के अर्जित किये हुए ज्ञान को लोगों की देखभाल के लिए उपयोग में लाना है।
आईटीएस डेन्टल कॉलेज में एमडीएस व बीडीएस के छात्रों को मिली डिग्री
डॉ. विवेक नांगिया ने अपने संबोधन मे कहा कि चिकित्सक की जरूरत समाज के हर प्रकार के लोगों को हर समय पडती है। चिकित्सक को उनकी जिम्मेदारियों का अहसास दिलाते हुए कहा कि देश के विकास की भागीदारी में चिकित्सकों का महत्वपूर्ण योगदान है। युवा चिकित्सकों को अपना आर्शीवाद प्रदान करते हुए डॉ. विवेक नांगिया ने कहा कि चिकित्सकों को चाहिए कि समाज के हर जरूरतमंद लोगों का सेवाभाव से इलाज करें।
संस्थान के प्राधानाचार्य डॅा. सचित आनन्द अरोड़ा ने विगत वर्षों में हुए संस्थान की उपलब्धियों को बताते हुए छात्रों से कहा कि चिकित्सीय शिक्षा का मुख्य उद्देश्य पैसा कमाना नहीं बल्कि समर्पित भाव से मरीजों की सेवा करना होना चाहिए।
संस्थान के उपाध्यक्ष सोहिल चड्ढा ने सभी उत्तीर्ण छात्रों को अपना आर्शीवाद देते हुए सभी छात्रों से अपील की कि संस्थान के माध्यम से विगत पांच वर्षों में छात्रों को दंत चिकित्सा की जो विद्या प्रदान की गयी है उसके माध्यम से सभी छात्र अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर जरूरतमंद मरीजों की सेवा करें और आईटीएस का नाम रोशन करें।
इस अवसर पर बीडीएस 2015 बैच के सभी छात्रों द्वारा संस्थान में बिताये गये अपने अनमोल पलों को पिरोकर बनाई गयी वार्षिक पुस्तिका का विमोचन करते हुए डॉ. रितू दुग्गल, डॉ. विवेक नांगिया तथा आईटीएस द एजूकेशन ग्रुप के अध्यक्ष डॉ. आरपी चड्ढा ने उत्तीर्ण छात्रों के उज्जवल भविष्य की मनोकामना करते हुए कहा कि देश के विकास में शिक्षा और स्वास्थ्य का बडा अहम योगदान है और आईटीएस- द एजूकेशन ग्रुप बेहतर शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने हेतु प्रतिबद्ध है।
अपने अध्ययन के दौरान एकेडमिक सांस्कृतिक, खेलकूद आदि में विशेष रूप से अच्छा प्रदर्शन करने वाले बीडीएस के छात्रों में बेस्ट आउट स्टैंडिग स्टूडेन्ट(एकेडमिक) फारुख मसूदी, बेस्ट आउटगोइंग स्टूडेन्ट ईवा जैन(आलराउंडर) बेस्ट आउटगोइंग स्टूडेन्ट(स्ट्रा सर्कुलर एक्टिविटी) अभिजीत झा और अभिनव दत्ता तथा एमडीएस के छात्रों में बेस्ट आउटगोइंग स्टूडेन्ट एकेडमिक अवार्ड में डॉ. नीलिका गुप्ता, बेस्ट आउटगोइंग पोस्ट ग्रेजुएड स्टूडेन्ट डॉ. आरुषि दीवान को पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

Spread the love
RELATED ARTICLES
Latest News