जीबीयू में स्वास्थ्य मनोविज्ञान पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में स्वास्थ्य पर हुई चर्चा

जीबीयू में स्वास्थ्य मनोविज्ञान पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में स्वास्थ्य पर हुई चर्चा

ग्रेटर नोएडा। गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय में स्वास्थ्य मनोविज्ञान पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का शुभारंभ मुख्य अतिथि प्रो. रनदीप गुलेरिया एम्स न्यू दिल्ली अपनी भाषा में स्वास्थ्य मनोविज्ञान को कोरोना काल में उपयोगिता एवं महत्व पर विचार व्यक्त किए तथा आज के समय में स्वास्थ्य मनोविज्ञान की जरूरत पर प्रकाश डाला। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि स्वास्थ्य मनोविज्ञान स्वास्थ्य क्षेत्र में अपनी अलग पहचान एवं भूमिका रखता है एवं विभिन्न परेशानियों से जूझ रहे लोगों की समाधान पहुंचाने में मदद करता है। भारतीय स्वास्थ्य मनोविज्ञान अकादमी के अध्यक्ष प्रोफेसर आनंद कुमार ने स्वास्थ्य मनोविज्ञान के क्षेत्र में हो रहे कार्यों पर विचार व्यक्त किए तथा गवर्नमेंट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, ग्रेटर नोएडा के निर्देशक, डा. राकेश गुप्ता ने वर्तमान समय में मनोचिकित्सकों की उपयोगिता एवं भूमिका पर विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में डॉक्टर नीति राना अधिष्ठाता, मानविकी एवम् समाज विज्ञान ने इस बात पर बल दिया कि कैसे हमने सामान्य परिस्थिति में अपनी समायोजन को प्रभावी बना रहे हैं। कार्यक्रम में डॉक्टर एपी सिंह ने इस बात पर प्रकाश डाला कि स्वास्थ्य पूर्ण व्यवहार का अभ्यास कैसे हमारे जीवन में चिकित्सकीय मदद पहुंचाता है। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के डीन एकेडमिक प्रोफेसर एन.पी. मल्कानिया, कुलसचिव डॉ. विश्वास त्रिपाठी ने अपने-अपने विचार व्यक्त किये। लगभग 400 प्रतिभागियों एवं श्रोताओं के बीच में सभी वक्ताओं ने अपने अपने विचार रखें और अंत में धन्यवाद प्रस्ताव ज्ञापित किया।

Spread the love
Latest News